- चाणक्य

“चाणक्य के अनुसार जीवन में ये चीजें प्रमुख होती हैं।”

- चाणक्य

“सभी प्रकार की औषधियों में अमृत सबसे प्रमुख औषधि है।”

- चाणक्य

“अमृता शब्द का अर्थ गिलोय किया है। गिलोय का उपयोग अनेक रोगों के लिए किया जाता है ”

- चाणक्य

“सुख देने वाले सब साधनों में भोजन सबसे प्रमुख है”

- चाणक्य

“मनुष्य के पास धन आदि सभी सुख के साधन हैं, परंतु जब तक वह भोजन नहीं करता तब तक उसे पूर्ण सुख प्राप्त नहीं होता”

- चाणक्य

“मनुष्य की सभी इंद्रियों में आंखें सबसे प्रधान और श्रेष्ठ हैं”

- चाणक्य

“इसी प्रकार शरीर के सभी अंगों में मनुष्य का सिर प्रधान है, उसी को सभी अंगों में श्रेष्ठ माना गया है।”

सम्पूर्ण चाणक्य निति पढ़ने के लिए क्लिक करें