- चाणक्य

“जो आलसी है उसके लिए चाणक्य ने कही ये महत्वपुर्ण बात”

- चाणक्य

“चाणक्य के अनुसार अलसी व्यक्ति कभी भी ऐश्वर्य प्राप्त नहीं कर सकता”

- चाणक्य

“अलसी व्यक्ति व नेता न तो अपने राज्य को विकसित कर सकता है न ही समृद्धशाली बना सकता है।”

- चाणक्य

“चाणक्य के अनुसार सत्य में निष्ठा न होना ही आलस्य है।”

- चाणक्य

“जो व्यक्ति सत्यहिन है वह सदा ऐसे कार्य करता है जो करने लायक नहीं होते। ”

- चाणक्य

“और उपयुक्त कार्यों को करता हुआ आलस्य दिखता है”

- चाणक्य

“चाणक्य के अनुसार आलस्य ही मनुष्य के शरीर में रहने वाला सबसे बड़ा शत्रु है।”

सम्पूर्ण चाणक्य निति पढ़ने के लिए क्लिक करें